Delhi lockdown

नई दिल्ली: आज देश कोरोना वायरस के चलते बहुत बड़े संकट से गुजर रहा है। जिसके चलते देशभर के ज्यादातर शहरों में लॉकडाउन कर दिया गया। साथ ही दिल्ली में तत्काल प्रभाव से कर्फ्यू लगा दिया गया है। जिसके चलते देश भर में जगह-जगह लोग रुक गए हैं। कोरोना वायरस संक्रमण से निपटने के लिए रेल,हवाई और बस सेवाओं को बंद कर दिया गया है। इस के चलते कई यात्री अपने गंतव्य तक नहीं पहुंच पा रहे है। इसी के चलते देश के तमाम दूसरे राज्यों से उत्तराखंड लौट रहे उत्तराखंड के कई लोग सोमवार शाम को दिल्ली पहुंचे। लेकिन लॉकडाउन और दिल्ली में लगे कर्फ्यू के चलते आगे नहीं जा पाए। ऐसे में इन लोगों के सामने समस्या यह आई की इतनी बड़ी संख्या में यह लोग अब कहाँ जाए।

Delhi lockdown

ऐसे समय समाज सेवी एवं डीपीएमआई के चेयरमैन विनोद बछेती इन लोगों के लिए उम्मीद की किरण बनकर पहुँचे। विनोद बछेती जी बताते है कि उन्हें उत्तराखंड के कई लोगों से सूचना मिली की देश के तमाम दूसरे राज्यों में छोटी-छोटी नौकरी करने वाले उत्तराखंड के कई लोग सोमवार को दिल्ली के आनंद विहार बस अड्डे पर पहुँचे हैं। लेकिन यहाँ से आगे जाने के लिए इनके पास कोई साधन नहीं है। क्योंकि कोरोना वायरस से लड़ने के लिए देश भर में लॉकडाउन कर दिया गया है। ऐसे में सवाल यह था कि अब इन लोगों को कैसे इनके घरों तक भेजा जाए।

विनोद जी बताते है सबसे पहले तो हम सब ने मिलकर इन लोगों के रात में रुकने की व्यवस्था की और पहाड़ के इन नौजवानों को हमने दिल्ली के गाजीपुर में स्थिति रैन बसेरा में ठहराया था। साथ ही उत्तराखंड सरकार से इन्हें जल्द से जल्द अपने-अपने क्षेत्रों तक पहुंचाने की अपील की इसका सुखद परिणाम यह हुआ की उत्तराखंड सरकार ने इन नौजवानों को अपने गांव तक पहुंचाने के लिए मंगलवार को दो बसों की व्यवस्था की  है और यह नौजवान अब अपने-अपने घरों की ओर प्रस्थान कर चुके हैं।

इसके लिए मैं मुख्यमंत्री त्रिवेंद्र सिंह रावत, उनके मीडिया सलाहकार रमेश भट्ट, एवं अजय टम्टा जी, उनके सहयोगी पंकज जोशी, समाजसेवी नरेंद्र लटवाल, पटपड़गंज के एसएचओ अरूण कुमार चौधरी और एसडीएम साहब सैनी का कोटि-कोटि आभार व्यक्त करता हूँ कि आपने पहाड़ के इन नौजवानों को इनके गांवों तक पहुंचाने में हमें सहयोग किया। साथ ही मैं अपील भी करना चाहूँगा की हम सब माननीय प्रधानमंत्री नरेन्द्र मोदी जी और सभी राज्य सरकारों द्वारा दिए गए  दिशा निर्देशों का पालन करें और कोरोना वायरस को भारत से भगाने के लिए सरकार का सहयोग करें।