Guldar imprisoned in cage in Pauri

पौड़ी: पौड़ी गढ़वाल के पाबौ ब्लॉक के भट्टी गांव में ग्रामीणों पर हमला करने वाले गुलदार को आज वन विभाग की टीम ने पिंजरे में कैद कर दिया। गढ़वाल वन प्रभाग की नागदेव रेंज के तहत आने वाले पाबौ ब्लाक के भट्टी गाँव में आदमखोर गुलदार को पिंजरे में कैद करने के लिए वन विभाग द्वारा पिंजरे लगाने के साथ ही शिकारी दल तैनात किया हुआ था। इस क्षेत्र में कई दिनों से आदमखोर गुलदार की दहशत बनी हुई थी।

बीते एक महीने में गुलदार ने पाबौ विकासखण्ड के अंतर्गत भट्टी गांव, कुलमोरी, सपलोड़ी आदि गांवों के ग्रामीणों को एक के बाद एक हमले कर निशाना बनाया था।

बीते 2 जून को आदमखोर गुलदार द्वारा भट्टी गांव में एक 75 वर्षीय बुजुर्ग महिला को उनके घर के पास ही निवाला बना दिया था। उससे पहले बीते 15 मई को सपलोड़ी गांव में काफल लेने जंगल में गई 45 वर्षीय महिला सुषमा देवी को गुलदार ने निवाला बनाया था। उसके बाद 20 मई को भी गुलदार ने सपलोड़ी पास कुलमोरी गांव में एक महिला पर हमला कर दिया था। जिसके बाद 7 जून को मुख्य वन संरक्षक गढ़वाल सुशांत पटनायक ने घटनास्थल का निरीक्षण कर ग्रामीणों के साथ बैठक की थी। साथ ही विभाग ने गांव में एक और शिकारी दल तैनात कर दिया था।

रेंज अधिकारी अनिल भट्ट ने बताया कि पाबौ क्षेत्र में हमलावर गुलदार पिंजरे में कैद हो गया है। गुलदार आज तड़के सरणा गांव में पिंजरे में कैद हो गया। जिसे रेस्क्यू सेंटर चिड़ियापुर हरिद्वार भेज दिया गया है। पिंजरे में कैद गुलदार मादा प्रतीत हो रही है। मादा गुलदार 6 से 7 वर्ष की है। उन्होंने बताया कि क्षेत्र में तैनात शिकारी दल लौट गया है। जबकि विभाग की टीम मौके पर ही तैनात है।

उधर भट्टी गांव की प्रधान सोनी पंत ने बताया कि अभी भी गांव में गुलदार की दहशत बनी है। गांव में दो गुलदार अभी भी दिखाए दे रहे हैं। उन्होंने वन विभाग से यहां पर शिकारी दल को तैनात करने की मांग की है।

जगमोहन डांगी