lakhpati-didi-scheme
File Photo

Lakhpati Didi scheme: मुख्यमंत्री पुष्कर सिंह धामी की प्राथमिकता वाली लखपति दीदी योजना को लेकर विकास विभाग संजीदा नजर आ रहा है। सीडीओ मनीष कुमार ने कहा कि लखपति दीदी बनाने के लिए जनपद में 28 हजार 644 महिलाओं का सर्वेक्षण कर लिया गया है। जिन्हें जनपद में तेजी से लखपति दीदी बनाने का काम किया जायेगा।

सीडीओ मनीष कुमार ने बताया कि प्रयास है कि जनपद में लखपति दीदी योजना तेजी से आगे बढ़े। जिसके लिए उन्होंने विभाग को इस काम में तेजी से झोंक दिया है। 28 हजार 644 महिलाओं का योजना के अंतर्गत सर्वेक्षण कर लिया गया है। इसमें सामने आया है कि इन महिलाओं में से 2 हजार 479 महिलाओं ने एक लाख रुपये का लाभ प्राप्त करना शुरू कर दिया है, जो लखपति दीदी बन चुकी हैं।

अभी जनपद में 24 हजार 561 महिलाओं को इस जद में लाना है। विकास विभाग का प्रयास है कि इन महिलाओं को उद्यान, कृषि, पशुपालन, सहकारिता व समूह से ऐसी योजनाओं से जोड़ा जायेगा, जिससे वर्षभर में महिलाओं शुद्ध एक लाख रुपये का लाभ कमा सकें। जनपद टिहरी गढ़वाल में लखपति दीदी योजना को कारगर बनाने के लिए ब्लाक भिलंगना, चंबा, देवप्रयाग, जाखणीधार, नरेंद्रनगर, प्रतापनगर और थौलधार में क्रमश 3457, 1959, 3017, 2713, 2701, 2846, 3067, 1909 और 2892 महिलाओं को लखपति दीदी में शामिल किया जाना है।

जनपद टिहरी के सीडीओ मनीष कुमार का कहना है कि लखपति दीदी योजना सीएम की प्राथमिकता वाली योजना है। जिसे लेकर जनपद में तेजी से काम किया जा रहा है। महिलाओं को सुदृढ़ और स्वरोजगारी बनाने में योजना अहम है। जिसे लेकर विभाग काम कर रहा है।

सीएम धामी ने इसी महीने की थी लखपति दीदी योजना की शुरुआत

गौरतलब है मुख्यमंत्री पुष्कर सिंह धामी ने इसी महीने की 4 तारीख को राजधानी देहरादून के सर्वे ऑफ इण्डिया ग्राउण्ड, हाथीबड़कला में आयोजित ‘लखपति दीदी मेला’ कार्यक्रम में मुख्यमंत्री लखपति दीदी योजना का शुभारम्भ किया था।

क्या है लखपति दीदी योजना

मुख्यमंत्री लखपति दीदी योजना के तहत राज्य की प्रदेश की सवा लाख महिलाओं को लखपति बनाने की कार्ययोजना तैयार की है। इस योजना के तहत प्रदेश में महिलाओं की इनकम बढ़ाने के लिए काम किया जाएगा। खास बात यह है कि ग्राम्य विकास विभाग की तरफ से इसके लिए विभिन्न परियोजनाएं चलाई जा रही हैं। इससे भी बड़ी बात यह है कि इन महिलाओं की इनकम को लेकर बकायदा सर्वे भी किया जा रहा है। फिलहाल महिलाओं की इनकम की स्थिति जानने के लिए सर्वे जारी है। मौजूदा स्थितियों के अनुसार 10% महिलाएं ऐसी हैं, जिनकी सालाना इनकम एक लाख या इससे अधिक है। ग्रामीण विकास विभाग की कोशिश है कि इस संख्या को बढ़ाया जाए और 2025 तक सवा लाख महिलाओं को लखपति बनाया जाए।